मकर संक्रांति 2024 कब है 14 या 15 जनवरी और पुण्य काल ।

मकर संक्रांति 2024 , Makar Sankranti Kab hai : जब सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है तो इस संक्रांति को ही मकर संक्रांति कहते हैं। इस साल 14जनवरी की देर रात 2:44 min. पर सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर रहा हैं। इस कारण से मकर संक्रांति की तिथि को लेकर लोगो में फिर से असमंज की स्थिति बन गई हैं।

प्रत्येक वर्ष 14 जनवरी को ही मकर संक्रांति का त्योहार बनाया जाता हैं लेकिन इस वर्ष गृहों की चाल इसको 15 जनवरी तक लेकर जा रही हैं। इस लिए इस साल मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाएगी। मकर संक्रांति से ही ऋतु परिवर्तन भी होने लगता हैं। इस दिन स्नान और दान कैसे कार्यों को करना पुण्य दिलाता हैं। मकर सक्रांति के दिन खिचड़ी बनाने और खाने का विशेष महत्व हैं। इस कारण से इस पर्व को कई जगह पर खिचड़ी का पर्व भी कहा जाता है।

ऐसी मान्यता है की इस दिन सूर्य देव इस दिन अपने पुत्र शनि से मिलने आते हैं। सूर्य और शनि का संबंध इस पर्व से होने के कारण यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता हैं। सुक्र का उदय भी लगभग इसी होता हैं इसलिए यहां से भी शुभ कार्यों की शुरुआत होती हैं।

मकर संक्रांति 2024

मकर संक्रांति 2024 के शुभ मुहुर्त

उदय तिथि के अनुसार इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी को मनाई जाएगी इस दिन सूर्य रात में 2:54 मिनट पर मकर राशि में प्रवेश करेगा।

मकर संक्रांति 2024 पुण्यकाल – सुबह 7:15 से लेकर शाम को 6:21 तक हैं।

महापुन्य काल – सुबह 7:15 से लेकर सुबह के 9:06 तक रहेगा

मकर संक्रांति मे क्या दान करे

  • काले तिल
  • सफेद तिल
  • गाय का घी
  • गुड़
  • अन्नाज
  • कंबल

मकर संक्रांति पर पुण्य प्राप्ति के लिए क्या करे

मकर संक्रांति के दिन गंगा स्नान करने से 100 अश्वमेघ यज्ञ और 1000 गाय दान करने जितना पुण्य मिलता हैं और सुख शांति मिलती हैं।

मकर संक्रांति 2024 धन लाने के लिए कुछ उपाय हैं


शरीर पर गुड़ और तिल लगाकर किसी पवित्र नदी या गंगा में स्नान करना।
यात्रा तट पर स्नान करना।
तिल, घी, गुड़ और खिचड़ी देना
तिल और तिल से बनाया गया सामान दान करना।
घर पर स्नान के पानी में गंगाजल और काले तिल डाल दें।
गाय को हरा चारा देना चाहिए।
गुड़ और काले तिल का दान करना
दान करना: गेहूं, दाल, चावल, खिचड़ी, घी, गरम कपड़े, कंबल, तांबे के बर्तन, आदि
हिन्दू धर्म में मकर संक्रांति को तिल संक्रांति भी कहते हैं। तिल देने से शनि, सूर्य, विष्णु और पिता प्रसन्न होते हैं।

और पढे

prabha atre biography कौन थी प्रभा अत्रे जिनकी हुई हार्ट अटैक से मृत्यु

लुलु मॉल किस राज्य मे बनेगा भारत का सबसे बड़ा मॉल ,देखे पहली झलक

Leave a Comment